डेटाबेस सर्वर क्या है|कैसे काम करता है”how database server works

डेटाबेस क्या है हिंदी में|डेटाबेस प्रबंधन क्या है|डेटाबेस की विशेषताएं|रिलेशनल डेटाबेस क्या है|डेटाबेस क्या है समझाइए|types of database servers|functions of database server|how database server works

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (Database Management system) DBMS एक ऐसा सॉफ्टवेयर होता है जो कि डेटाबेस को मैनेज (डेटाबेस का प्रबंधन) करता है और डेटाबेस में मौजूद इनफार्मेशन व डाटा को create, show , edit और delete करने की सुविधा देता है| डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम एक तरह का डेटाबेस मैनेजर होता है जो की इनफार्मेशन को सर्च, इनफार्मेशन ढूंढना, अपडेट करना इत्यादि कार्य मैनेज करता है| अधिकतर डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम sql लैंग्वेज उपलब्ध कराते हैं SQL लैंग्वेज एक स्टैण्डर्ड है जिसे ANSI नामक संस्था ने बनाया है| SQL लैंग्वेज के जरिये ही DBMS में से डाटा व इनफार्मेशन को create, show, edit, delete और सर्च आदि किया जाता है| अधिकतर उपयोग में आने वाले DBMS  सॉफ्टवेयर के उदाहरण है Mysql, MSSQL सर्वर, Oracle, PostgreSQL and SQLite आदि|

कंप्यूटिंग में, सर्वर एक कंप्यूटर प्रोग्राम या एक डिवाइस है जो अन्य प्रोग्राम या डिवाइस जिन्‍हे “क्लाइंट” कहा जाता है, के लिए फंक्शनलिटी प्रदान करता है।इस आर्किटेक्चर को क्लाइंट-सर्वर मॉडल कहा जाता है, और यह ओवरऑल कम्प्यूटेशन मल्टीपल प्रोसेसेस या डिवाइेसेस पर डिस्ट्रीब्यूट किया जाता हैं।एक सर्वर एक कंप्यूटर या सिस्टम है जो नेटवर्क पर क्लाइंट के रूप में ज्ञात अन्य कंप्यूटरों को संसाधन, डेटा, सेवाएं या प्रोग्राम प्रदान करता है। सिद्धांत रूप में, जब भी कंप्यूटर क्लाइंट मशीनों के साथ संसाधनों को शेयर करते हैं तो उन्हें सर्वर माना जाता है। वेब सर्वर, मेल सर्वर और वर्चुअल सर्वर सहित कई प्रकार के सर्वर होते हैं।

डेटाबेस प्रबंधन क्या है

डेटाबेस structured information का एक organized collection है. आसान शब्दों में Data के systematic collection को “Database” कहा जाता है. वो इसलिये क्योंकि इसे काफी व्यवस्थित बनाया जाता है. ताकि डेटा को आसानी से access, manage और update किया जा सके. Database का मूल कार्य data management को आसान बनाना है|

Database की Importance क्या है

डेटाबेस महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके द्वारा ही data सही और व्यवस्थित तरीकें से manage हो पाता है. इसके साथ यह user को कई कार्य करने की आज्ञा भी प्रदान करता है. Database managment system (DBMS) एक एकल software application के भीतर बड़ी मात्रा में information को manage और organize कर सकता है. जिसके कारण व्यवसाय संचालन की efficiency बढ़ जाती है और समय लागत कम हो जाती है|

इसके साथ ही डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली ने business और बड़ी organization को काफी फायदा पहुचाया है. क्योंकि वे कई प्रकार के data को store करने के लिए इसका प्रयोग करते है. आज हम इस प्रणाली का प्रयोग employee record, accounting, library books, student information, project management और inventory इत्यादि प्रकार के data को manage करने लिए करते है|

डेटाबेस के प्रकार – Types of Database

डेटाबेस उपयोग की आवश्यकताओं के आधार पर, बाजार में निम्नलिखित प्रकार के उपलब्ध हैं –

  • Centralised Database
  • Distributed Database
  • Personal Database
  • End-user Database
  • Commercial Database
  • NoSQL Database
  • Operational Database
  • Relational Database
  • Cloud Database
  • Object-oriented Database
  • Graph Database

डेटाबेस की विशेषताएँ

  • यह डेटा के बीच जटिल संबंधों को कम करता है.
  • इसका उपयोग डेटा की सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जाता है.
  • डेटाबेस में स्वचालित बैकअप और पुनर्प्राप्ति प्रक्रिया शामिल होती है.
  • इसका उपयोग डेटा के हेरफेर और प्रसंस्करण का समर्थन करने के लिए किया जाता है.
  • यह उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं के अनुसार विभिन्न दृष्टिकोणों से डेटाबेस को देख सकता है.
  • यह प्रक्रिया का एक स्पष्ट और तार्किक दृष्टिकोण प्रदान कर सकता है जो डेटा में हेरफेर करता है.
  • इसमें एसीआईडी गुण होते हैं जो विफलता की स्थिति में एक स्वस्थ स्थिति में डेटा बनाए रखते हैं.
  • यह जानकारी स्टोर करने और मैनेज करने के लिए सर्वर पर स्थापित डिजिटल रिपॉजिटरी का उपयोग करता है.

डेटाबेस के फायदे

डेटाबेस के बहुत से फायदे जो इस प्रकार है –

  • यह डेवलपमेंट के समय और रखरखाव की आवश्यकता को कम करता है.
  • यह डेटाबेस सिस्टम के केंद्रीकृत प्रकृति के कारण आसानी से बनाए रखा जा सकता है.
  • डेटाबेस में एक संगठन के अधिकृत उपयोगकर्ता कई उपयोगकर्ताओं के बीच डेटा साझा कर सकते हैं.
  • यह ग्राफिकल यूजर इंटरफेस, एप्लिकेशन प्रोग्राम इंटरफेस जैसे विभिन्न प्रकार के यूजर इंटरफेस प्रदान करता है.
  • डेटाबेस अतिरेक को नियंत्रित कर सकता है क्योंकि यह सभी डेटा को एक एकल डेटाबेस फ़ाइल में संग्रहीत करता है और उस रिकॉर्ड किए गए डेटा को डेटाबेस में रखा जाता है.
  • यह बैकअप और रिकवरी सबसिस्टम प्रदान करता है जो हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर विफलताओं से डेटा का स्वचालित बैकअप बनाता है और यदि आवश्यक हो तो डेटा को पुनर्स्थापित करता है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *