[गोवंश रक्षा] बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना यूपी|

[गोवंश रक्षा] बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना यूपी|

यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना| उत्तर प्रदेश बेसहारा गोवंश सहभागिता स्कीम 2019|मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना|up Mukhyamantri Nirashrit Beshara Govansh Sahbhagita Yojana|Nirashrit Beshara Govansh Sahbhagita scheme|

उत्तर प्रदेश मैं अपने कैबिनेट मीटिंग में नई योजना शुभारंभ किया है| यह ‘माननीय मुख्यमंत्री निराश्रित/बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना’ के नाम से जानी जाएगी।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ने बेसहारा आवारा पशुओं का पालन करने वाले किसानों वित्तीय सहायता देने की शुरुआत की है| जैसा कि आप जानते हैं दिन-प्रतिदिन आवारा पशुओं छोड़ा जा रहा है| इसको देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने  Nirashrit Beshara Govansh Sahbhagita Yojana गठन किया है| उत्तर प्रदेश बेसहारा गोवंश सहभागिता स्कीम 2019 से आवारा पशुओं को छोड़ा नहीं जाए|

यूपी सरकार निराश्रित गोवंश के संरक्षण व भरण पोषण के लिए स्थायी-अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल, गो संरक्षण केंद्र, गोवंश वन्य विहार, पशु आश्रय गृह संचालित कर रही है। 2012 की पशुगणना के मुताबिक प्रदेश में 205.66 लाख गोवंश हैं। इनमें 10-12 लाख निराश्रित गोवंश हैं।Nirashrit Beshara Govansh Sahbhagita scheme पर अनुमानित एक अरब नौ करोड़ 50 लाख रुपये खर्च होंगे।यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना

त्तर प्रदेश प्रदेश कैबिनेट ने निराश्रित, बेसहारा गोवंश का पालन करने वाले किसानों को 30 रुपये प्रतिदिन प्रति पशु देने के लिए मुख्यमंत्री निराश्रित, बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना को मंजूरी दे दी है|इस तरह प्रति निराश्रित पशु पालने पर किसानों को 900 रुपये महीने मिल सकेंगे।यदि वह 10 पशु ले जाएंगे तो 9000 रुपये मिल सकेंगे।ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि निराश्रित गोवंश रक्षा का संरक्षण योगी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है।

सरकार के प्रवक्ता के मुताबिक उत्तर प्रदेश में 523 पंजीकृत गोशालाओं को राज्य सरकार द्वारा संरक्षित गोवंश के 70 प्रतिशत की संख्या को आधार मानकर 30 रुपये प्रति गोवंश 365 दिनों के लिये अनुदान दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री जी कहा कि गोवंश रक्षा के लिए निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना चलाई गई है| ताकि लोग आवारा पशुओं का भरण पोषण करें|इस योजना से सामाजिक सहभागिता बढ़ेगी व निराश्रित व बेसहारा गोवंश की संख्या में कमी आएगी। यह योजना किसानों व पशुपालकों को आर्थिक रूप से स्वावलंबी भी बना सकेगी।

यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के लाभ

  • जो भी लोग इसमें भाग लेंगे, उन्हें प्रति गोवंश 30 रु प्रतिदिन के हिसाब से सहायता दी जाएगी|
  • अगर कोई व्यक्ति 10 गोवंश का पालन पोषण करता है, तो उसे मासिक 9 हजार रु की आमदनी होगी|
  • पशुओं की ईयर टैगिंग भी की जाएगी जिससे किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार की संभावना कम हो जाएगी।
  • पशुपालकों, किसानों द्वारा आवारा पशुओं को आसरा देने से रास्ते में निराश्रित पशुओं द्वारा होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में भी कमी आएगी।
  • इसके अलावा तहसील, ब्लॉक व जिला स्तर पर समिति का भी गठन होगा। स्थानीय समिति प्रगति से बीडीओ व एसडीएम को अवगत कराएगी।
  • डीएम दफ्तर में पूरा ब्योरा होने की वजह से किसान या पशुपालक जिसने भी निराश्रित पशु को योगी आवारा पशु योजना 2019 के अंदर लिया है वह गोवंश को बेच नहीं पाएगा। ऐसा करने वाले लोगों पर सरकार द्वारा कारवाई की जाएगी|

बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना यूपी ऑनलाइन अप्लाई आवेदन प्रक्रिया

अभी इस योजना का शुभारंभ किया है| जल्दी ही up Mukhyamantri Nirashrit Beshara Govansh Sahbhagita Yojana online apply शुरू हो जाएगी|

इस योजना से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए निकटम आप अपने डीएम दफ्तर में संपर्क कर सकते हैं।

यूपी कन्या सुमंगला योजना 2019

*New*UP ration card list 2019|यूपी *नई* राशन कार्ड सूची ऑनलाइन देखें

यूपी नई राशन कार्ड अप्लाई ऑनलाइन|up ration card online apply 2019

1 thought on “[गोवंश रक्षा] बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना यूपी|”

Leave a Comment