भारत की पंचवर्षीय योजना की जानकारी हिंदी में

पंचवर्षीय योजना | Five Year Plans

केंद्र सरकार के माध्यम से देश के नागरिकों के लिए हर 5 साल में आर्थिक और सामाजिक विकास का उदेश्ये रखते हुए पंचवर्षीय योजना को आरम्भ किया जाता है। यह योजना केंद्रीकृत और एकीकृत राष्ट्रीय आर्थिक कार्यक्रम हैं। Five Year Plans के माध्यम से अब तक 12 वीं पंचवर्षीय योजनाएं शुरू की गई हैं। इस योजना के तहत से देश में कृषि विकास, मानवीय, रोजगार के अवसर देना, व भौतिक ससाधनो का प्रयोग कर आवेदकों को बढ़ावा आदि सुविधाएं दी जा रही है । तो आज हम आपको अपने इस लेख के द्वारा योजना से जुडी सभी जानकारी देने जा रहे है आप से निवेदन है की आप हमारे इस लेख को विस्तार से पूरा पढ़े ।

पहली पंचवर्षीय योजना (1951-1956)

हमारे देश के प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू जी द्वारा पहली पंचवर्षीय योजना वर्ष 1951 को आरम्भ की गयी थी और सन 1956 तक इस योजना का कार्यकाल चला । प्रथम पंचवर्षीय योजना में कृषि जिलों पर विशेष ज़ोर दिया गया क्योंकि उस दौरान खाद्यान्न की कमी और परेशानी थी। इसी पंचवर्षीय योजना के चलते हुए पाँच इस्पात संयंत्रों की नींव रखी गई।

पहेली पंचवर्षीय योजना का लक्ष्य

  • खाद्यान्नों के मामले में लगभग सम्भव अवधि में आत्मनिर्भरता प्राप्त करना
  • मुद्रास्फीति पर नियंत्रण करना।
  • शरणार्थियों का पुनर्वास
  • इसके  साथ- साथ इस योजना में सर्वांगीण विकास की प्रक्रिया शुरू की गयी, जिससे राष्ट्रीय आय के लगातार बढ़ने का आश्वासन प्रदान किया जा सके
  • इस योजना के माध्यम से कृषि को प्राथमिकता प्रदान की गयी है। 

(1956 -1961 ) द्वितीय पंचवर्षीय योजना 

द्वितीय पंचवर्षीय योजना का कार्यकाल 1956 से 1961 तक रहा। इस योजना के माध्यम से उद्योग पर ध्यान केंद्रित हुआ था। । इस योजना के द्वारा देश के नागरिको के जीवन स्तर को अच्छा करने के लिए 5 साल में राष्ट्रीय आय में 25% की वृद्धि करने का सरकार द्वारा  लक्ष्यनिर्धारित किया गया था। 2ed Five Year Plan के आवेदक जिलों के बीच निवेश के इष्टतम आवंटन निर्धारित क्रम में करने के लिए अधिक टाइम से चलाने के वित्तीय विकास को ज्यादातर करने का प्रयास किया गया ।

द्वितीय पंचवर्षीय योजना का लक्ष्य

  • Five Year Plans  के तहत से उद्योग की प्राथमिकता प्रदान की गयी थी ।
  • इस योजना के माध्यम से देश में आवेदकों के घरेलु उत्पादन को प्रत्साहित किया गया था ।
  • पंचवर्षीय योजना के चलते हुए इस्पात के तीन बड़े कारखाने शुरू किये गए –  दुर्गापुर,भिलाई, राउरकेला का आरम्भ किया गया ।

पंचवर्षीय योजना का उद्देश्य

पंचवर्षीय योजना देश के विकास के लिए शुरू की गई थी। फाइव ईयर प्लान्स का मुख्य उद्देश्य विकास की दर में वृद्धि करना है। इन पंचवर्षीय योजना के अंतगर्त निवेश में भी बढ़ोतरी की जा सकती है। इस के साथ गरीबी हटाना, पूर्ण रोजगार, सामाजिक न्याय, आधुनिकरण आदि । अभी तक हमारे देश में 13 पंचवर्षीय योजना निकाली जा चुकी हैं। जिसके द्वारा से सरकार द्वारा कोई ना कोई उद्देश्य तय किया गया है और फिर उस उद्देश्य पर कार्य किया गया है। इन 5 वर्षीय योजनाओं के अंतगर्त से देश की गरीबी में भी अधिक सुधार आया है।

Highlights of Five Year Plans 2021

योजना का नामपंचवर्षीय योजना
किस ने लांच कीभारत सरकार
लाभार्थीभारत के नागरिक
उद्देश्यदेश का विकास करना
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें
साल2021

पंचवर्षीय योजना का इतिहास

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी ने 9 जुलाई 1951 को संसद में पहली पंचवर्षीय योजना शुरू की थी। भारत सरकार द्वारा Five Year Plans आजादी के बाद संसाधन के प्रभावी और संतुलित प्रयोग के लिए अपनाई गई योजनाओं का एक औपचारिक मॉडल था।  पंचवर्षीय योजनाओं का आरम्भ करने के लिए 15 मार्च 1950 को भारतीय योजना आयोग का गठन किया गया था। 

पंचवर्षीय योजनाओं के लाभ और विशेषताएं

  • भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा 9 जुलाई 1951 को Five Year Plans को आरम्भ किया गया था।
  • 15 मार्च 1950 को इन पंचवर्षीय योजनाओं के संचालन के लिए भारतीय योजना आयोग का गठन किया गया था।
  • पंचवर्षीय योजनाओं के माध्यम से अन्य योजनाओं को 5 सालो तक चलाया जाता है कियोकि देश का विकास हो सके और फिर अगले 5 साल  के लिए कई योजनाएं बनाई जाती हैं।
  • इन योजनाओं के अंतगर्त से  गरीबी हटाना, पुणे रोजगार, सामाजिक न्याय,आधुनिकरण आदि की और भी ध्यान दिया जाता है।
  • अब तक देश में 13 5 वर्षीय योजनाएं नकली जा चुकी है।
  • इन योजनाओ का मुख्य उद्देश्य देश की गरीबी को कम करना तथा देशवासियों के जीवनशैली में सुधार लाना भी है।
  • इन पंचवर्षीय योजनाओं के द्वारा से उत्पादन में बढ़ोतरी, संसाधनों का उचित आवंटन और हर किसी को रोजगार का अवसर देना भी है।
Conclusion:

हम आशा करते ही की आपको हमारे लेख के माध्यम से पंचवर्षीय योजना के बारे में जानकारी आपको समझ आयी होगी यदि कोई प्रश्न या समस्या आती है तो आप हमे कमेंट कर के पूछ सकते है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *