भूलेख उत्तराखंड

भूलेख उत्तराखंड क्या है | Online Apply Kaise kare

राज्य सरकार ने भूलेख उत्तराखंड की जांच करने के लिए भू अभिलेख पोर्टल को शुरू कर दिया है। इस ऑनलाइन पोर्टल की मदद से राज्य के जो नागरिक है, वह अपनी भूमि से जुड़ी सभी जानकारी जैसे देवभूमि भू-नक्शा, उत्तराखंड भूलेख, खसरा-खतौनी, जमाबंदी और भू-अभिलेख आदि जानना चाहते है तो वह बहुत ही आसानी से जान सकते है । तो चलिए आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के तहत बतायेगे की आप किस तरह से अपनी भूमि से जुड़ी सभी जानकारी कैसे Online ले सकते है ।

खसरा खतौनी,भू नक्शा देवभूमि उत्तराखंड

राज्य के जो भी नागरिक अपनी भूमि का पूरा रिकॉर्ड जानना चाहते है तो वह देवभूमि उत्तराखंड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन देख सकते है और अपनी भूमि पर मालिकाना हक जमा कर सकते है। आप इन्टरनेट के द्वारा से अपने घर से बैठे ही उत्तराखंड भूमि की सभी जानकारी ले सकते है। भूलेख या भू अभिलेख भूमि की जानकारी होती है जिसे खाता भी कहा जाता है। भू नक्शा जमीन का नक्शा होता है। जिसमें अन्य चीजें जैसे भूमि का प्रकार, खातेदार का विवरण आदि उपलब्ध होता है। इस ऑनलाइन पोर्टल के अंतर्गत से आप लोग अपनी खसरा खतौनी,भू नक्शा/भू अभिलेख, जमाबंदी नकल ऑनलाइन डाउनलोड करके भी रख सकते है ।

सीएससी रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन 2021|csc new registration 2021

Bhulekh Uttarakhand Highlights

योजना का नामभूलेख उत्तराखंड
लाभार्थीउत्तराखंड के नागरिक
उद्देश्यराज्य के लोग ऑनलाइन अपनी भूमि का रिकॉर्ड देख सकते है
देखने का तरीकाऑनलाइन
ऑफिसियल वेबसाइटhttp://bhulekh.uk.gov.in/Bhulekh/

भूलेख उत्तराखंड ऑनलाइन का उद्देश्य

जैसा की हम सभी जानते है कि इस ऑनलाइन सुविधा के आरम्भ होने से पहले उत्तराखंड के नागरिको को अपनी भूमि से जुड़ी जानकारी जानने के लिए पटवारखाने के पास चक्कर काटने पड़ते थे। जिससे नागरिको को बहुत परेशानी होती थी और उनका बहुत टाइम भी ख़राब होता था। इसलिए डिजिटल इंडिया प्रोग्राम के अंतगर्त  देश के सभी राज्यों की भूमि की जानकारी को डिजिटाइज कर दिया गया है । 

अब नागरिकों को कही जाने की जरूरत नहीं होगी अब राज्य के लोग घर से ही इंटरनेट के द्वारा उत्तराखंड भूलेख ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर आसानी से ऑनलाइन भूमि रिकॉर्ड खोज सकते है। इससे नागरिकों के समय की भी बचत होगी । इसी उद्देश्य से उत्तराखंड सरकार ने इस ऑनलाइन सुविधा को आरम्भ किया है ।

Uttarakhand Bhulekh के लाभ

  • इस उत्तराखंड भूलेख ऑनलाइन पोर्टल की मदद से उत्तराखंड राज्य के नागरिक घर से ही इंटरनेट के द्वारा आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन भूमि रिकॉर्ड खोज सकते है।
  • इससे राज्य के लाभारतीयो के टाइम की भी बचत होगी ।
  • राज्य के नागरिक देश के किसी भी कोने से ऑनलाइन अपनी भूमि से जुड़ी सम्पूर्ण  जानकारी ले सकते है ।
  • अब राज्य के नागरिकों को पटवारखाने के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे और न ही किसी भी प्रकार की परेशानियां उठानी पड़ेगी ।
  • इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार और नागरिकों के बीच पारदर्शिता आएगी  और इससे भ्रष्टाचार कम होगा।
  • उत्तराखंड राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ऑनलाइन devbhoomi.uk.gov.in/ ऑफिसियल वेबसाइट के द्वारा भूमि के रिकॉर्ड जैसे:- जमाबंदी नकल, भूलेख नक्शा, खसरा, खतौनी संख्या, खतौनी की प्रतिलिपि तथा अन्य सुविधाएं दे रहा है।

भूलेख उत्तराखंड : खसरा खतौनी नकल, जमाबंदी ऑनलाइन कैसे देखे ?

राज्य के जो भी नागरिक अपनी भूमि  से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी ऑनलाइन खोजना चाहते है । तो वह नीचे दिए गए तरीके को फॉलो करे ।

  • सबसे पहले आवेदक को भूलेख उत्तराखंड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा ।
भूलेख उत्तराखंड
  • अब आपको Public ROR का विकल्प दिखाई देगा आपको इस विकल्प पर क्लिक करना होगा । विकल्प पर क्लिक करने के बाद आपके सामने कंप्यूटर स्क्रीन पर अगला पेज खुल जायेगा । 
भूलेख उत्तराखंड
  • इस पेज पर आपको अपने जनपद का चयन करना होगा और फिर अपनी तहसील और ग्राम का चयन करना होगा ।आप अपने ग्राम के पहले अक्षर के द्वारा भी अपने ग्राम के नाम की चेक कर सकते है।
  • अब आप अगले पेज पर अपने खाता संख्या, खसरा/गाटा संख्या तथा खातेदार के नाम से खतौनी नकल देख सकते है। अगर आप खातेदार के नाम से खाते की नकल देखना चाहते हैं तो “खातेदार के नाम द्वारा”लिंक पर क्लिक करना होगा ।
  • अब आप अक्षर तालिका से अपने नाम के अक्षर लिखकर खोजे पर क्लिक कर दे। अब आप पीडीऍफ़ फॉर्मेट में Bhulekh UK (ROR) विवरण ऑनलाइन देख पाएंगे जिसे आप डाउनलोड अथवा प्रिंट भी कर सकते है।

Conclusion

हम आशा करते है की आपको भूलेख उत्तराखंड से सम्बन्धित सभी जानकारी समझ आ गयी होगी। यदि आपको कभी भी कोई समस्या आ रही है तो आप हमे कमेंट करके पूछ सकते है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *